Thursday, 13 September 2012

मिलावट का दौर है

मिलावट का दौर है, करार मत करना
हर  किसी पर एतबार  मत  करना

तुम्हारी तरह हम भी ख़ुदा के बंदे हैं
बीच हमारे कभी,  दरार मत  करना

सो भी जाओ  कि  बहुत  रात हुई
जा चुके उनका  इंतज़ार मत करना

हमारी  ज़रूरतें  तो  बहुत थोड़ी हैं
आदतें  हमारी  खराब  मत करना

हम तो  पहली  नज़र के  मारे हैं
साथ  हमारे मज़ाक  मत  करना

No comments:

Post a Comment