Saturday, 20 October 2012

ये परेशानियाँ तो आनी-जानी है


ये परेशानियाँ तो आनी-जानी है
मधुमेह तो कभी दिल की बीमारी है

गम है तो खुशी की वजहें भी हैं
रोते गुज़रे तो क्या जिंदगानी है

दिल के ज़ख़्मों से यूँ न घबराओ
बीते वक़्त की ये हसीं निशानी है

वक़्त बे वक़्त कुछ नहीं होता
जो मिला सब खुदा की मेहरबानी है

हर काम कल पर न छोड़ा करो
बर्बादिये वक़्त भी एक बीमारी है

गम की वजहें समझ नहीं आती
यही तो हमारी तुम्हारी कहानी है

4 comments:

  1. ये परेशानियाँ तो आनी-जानी है
    सही बात है..
    बेहतरीन गजल..
    :-)

    ReplyDelete
  2. बहुत शुक्रिया एवं आभार |

    ReplyDelete
  3. वक़्त बे वक़्त कुछ नहीं होता
    जो मिला सब खुदा की मेहरबानी है

    बहुत खूब .... हौसला देती खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  4. बहुत आभार संगीता जी
    हमें हौंसला देते है
    आपके कोमेंट्स ।

    ReplyDelete