Saturday, 23 February 2013

वजह


रेगिस्तान में
रेत की चादर की तरह
मेरी ज़िंदगी भटकती रही
कभी यहाँ, कभी वहाँ
मैं ढूँढता रहा अपना ठिकाना
हवा बहा ले गई
जब चाहा जिधर चाहा
मेरा अपना ठिकाना
कुछ भी नहीं
मगर मालूम है मुझे
हर चीज़ का
अपना वज़ूद होता है
फिर चाहे नागफनी हो,
या हो नीम !
कोहिनूर हो,
या हो रेत !
बिना वजह
कुछ भी नहीं होता
गरीब न होते
अमीर को कौन पहचानता ?
प्यास न होती
पानी का महत्व कौन जानता ?
प्यार न होता
दिल की धड़कनें कौन सुनता ?
तुम न होते
प्यार क्या है, मैं कैसे जानता ?
बिना वजह
कुछ भी नहीं होता
कुछ होता है
क्योंकि
वजह होती है ।

6 comments:

  1. वह नादिर साहब ,क्या खूब फ़रमाया है ***** तुम न होते
    प्यार क्या है, मैं कैसे जानता ?
    बिना वजह
    कुछ भी नहीं होता
    कुछ होता है
    क्योंकि
    वजह होती है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हौंसला अफजाई के लिए बहुत शुक्रिया अज़ीज़ भाई ।

      Delete
  2. हर बात की कोई न कोई वजह होती है ... बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. संगीता जी बहुत शुक्रिया
      आपके कोमेंट्स हमेशा प्रेरणा देते है।
      बहुत आभार आपका ...

      Delete
  3. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुतिकरण सुन्दर शब्द चयन,आभार है आपका

    आज की मेरी नई रचना जो आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही है


    ये कैसी मोहब्बत है

    ReplyDelete
  4. Sahi kaha,kuch bhi bewajah nhi hota,wajah humaare nazriye pr nirbhar karta h..

    ReplyDelete